एनएसडी के समर फेस्टिवल में होंगे 9 नाटकों के 37 प्रदर्शन

0
21

कला प्रतिनिधि, इंदौर स्टूडियो। नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के रंगमंडल का समर थियेटर फेस्टिवल का 23 मई से शुरू होगा। 15 जून तक चलने वाले इस फेस्टिवल का शुभारंभ रंगमंडल के रजत नाटक ‘ताजमहल के टेंडर’ से होगा। ख़ास बात यह है कि पहली बार यह फेस्टिवल दिल्ली के साथ लद्दाख में भी होगा। फेस्टिवल में कुल 9 नाटकों की 37 प्रस्तुतियां होंगी। दिल्ली में हर नाटक के सम्मुख और अभिमंच में दो-दो शोज़ रखे गये हैं। एक दोपहर साढ़े तीन बजे से और दूसरा शाम को 7 बजे से। नाटकों के टिकट ‘बुक माय शो’ के ज़रिये खरीदे जा सकते हैं। लद्दाख में 5 नाटकों का होगा मंचन: एक पत्रकार वार्ता में यह जानकारी विद्यालय के निदेशक चितरंजन त्रिपाठी ने दी। इस अवसर पर रजिस्ट्रार प्रदीप के मोहंती और एनएसडी,रंगमंडल के प्रमुख राजेश सिंह भी मौजूद थे। उन्होंने भी फेस्टिवल की जानकारी साझा करने के साथ पत्रकारों के पूछे सवालों के जवाब दिये। लद्दाख में प्रस्तुतियां 26 जून से: श्री त्रिपाठी ने बताया कि दिल्ली के अलावा लद्दाख में नाट्य प्रस्तुतियां 26 से 30 जून तक होंगी। वहां रंगमंडल के कलाकार पाँच नाटकों का मंचन करेंगे। इस तरह रंगमंडल के समर फेस्टिवल का वहां पर यह पहला मौका होगा। पत्रकार वार्ता में राजेश सिंह ने फेस्टिवल में होने वाले नाटकों के बारे में विस्तार से बताया। नीचे दिये गये पोस्टर में देखिये कब है कौन-सा शो। ‘ताजमहल’ 25 साल पुराना नाटक: आपको बता दें , नाटक ‘ताजमहल का टेंडर’ रंगमंडल का 25 साल पुराना नाटक है। इसका निर्देशन एनएसडी के निदेशक चित्तरंजन त्रिपाठी ने ही किया है। 25 साल से लगातार यह नाटक दर्शकों की पसंद में शामिल रहा है। इसके लगातार मंचन होते आ रहे हैं। बंद गली का आख़िरी मकान: फेस्टिवल में देवेंद्र राज अंकुर निर्देशित द्वारा निर्देशित नाटक ‘बंद गली का आख़िरी मकान’ का भी मंचन होगा। इस नाटक का फिर से मंचन इसीलिये भी सुखद है क्योंकि अंकुर जी के कथा रंगमंच को अब 50 साल पूरे हो चुके हैं। इस तरह से इस नाटक की प्रस्तुति उनके कथा रंगमंच के सम्मान का उपलब्धि मंचन होगा। फेस्टिवल की अन्य विशिष्ट प्रस्तुतियां: इसके साथ ही फेस्टिवल में पद्मश्री रामगोपाल बजाज द्वारा निर्देशित नाटक ‘अंधायुग’ और ‘लैला मजनूं’, प्रो. विदुषी ऋता गांगुली निर्देशित नाटक ‘अभिज्ञान शाकुंतलम’, स्व. उषा गांगुली निर्देशित ‘बायेन’, श्री अजय कुमार के निर्देशन में ‘माई री मैं का से कहूं’, भारती शर्मा निर्देशित नाटक ‘खूब लड़ी मर्दानी’ तथा रंगमंडल के निदेशक श्री राजेश सिंह निर्देशित अति प्रशंसित संगीतमय नाट्य प्रस्तुति ‘बाबूजी’ का मंचन किया जाएगा।
आगे पढ़िये: https://indorestudio.com/nsd-rangmandal-ke-7-superhit-natak-har-prastuti-ka-alag-rang/

LEAVE A REPLY